Wednesday 9 January 2008

हर तरफ मिस क्लिंटन ही क्लिंटन

न्यूयार्क टाइम्स के पहले पन्ने पर मिस क्लिंटन के जीत की खबर छाई हुयी है। लीड स्टोरी में उनके बयान को छपा गया है, जिसमे उसने कहा है कि बहस निर्णायक मोड़ साबित हुआ। पूरी बातचीत एन बी सी पर प्रसारित सुबह के सो के दौरान लिया गया इंटरव्यू है।
इसी पन्ने पर छपे ऐक्जित पोल में कहा गया कि क्लिंटन की जीत में औरतों में जबरदस्त उत्साह देखा गया और आज की जीत में औरतों के हाथ रह है।

अख़बार की दुसरी बड़ी खबर बुश का मिडिल ईस्ट यानी इसराइल और फिलिस्तीन का दौरा है। वे एक सप्ताह के दौरे पर जाने वाले हैं।

इरान की खबर भी छपी गयी है, जिसमे विडियो औए जहाज के मामलों पर विस्तृत रिपोर्ट है।
इंटरनेट संस्करण में ब्लाग में छपी खबरों के लिए अलग बाक्स बनाया गया है और कई मनोरंजक और ख़बरों का पिटारा है।

बच्चों को खाने से होने वाला एलर्जी पर अक खबर है, जो जानकारी से परिपूर्ण है।
विशेष...
हिलेरी क्लिंटन के राष्ट्रपति की दौड़ में शामिल होने पर ओपैद पेज पर ग्लोरिया स्तेनेम का लेख छापा है जिसका शीर्षक है, औरत कभी भी अग्रिम मोर्चे पर नही डटी । इसे आलेख पर विस्तृत चर्चा अगले चिठे में करूँगा।
विनीत उत्पल

Sunday 6 January 2008

दुनिया के अख़बारों से न हों बेखबर

देश के विभिन्न मीडिया पर बहुतेरे लेख लिखे गए हैं और लिखे जा रहे हैं। लेकिन अंतर राष्ट्रीय मीडिया मी छाने वाले मुद्दे भी काम नही हैं। इसकी व्यापकता को देखते हुए दूर देश के अख़बारों को पढना और समझना एक मायने रखता है। उस पर अपनी ओर से टिप्पणी तो अहम मामला है ही।

जहाँ आज के दौर में अमेरिका की खबर पूरी अंतर राष्ट्रीय बिरादरी को प्रभावित करती है, वहीं हर देश की मीडिया द्वारा किसी खास मुद्दे को व्यापक तौर से लोगों के सामने लाना भी अहम मुद्दा है। अमेरिका, ब्रिटेन, ईरान, आस्ट्रेलिया, पाकिस्तान, बंगलादेश की खबरें भारत के लिए अहम मायने रखती है।

इसी क्रम में इस ब्लाग में दुनिया जहाँ की अख़बारों और उनमें छपने वाले रपटों की विस्तृत जानकारी के अलावा विश्लेषण भी पाएंगे। साथ ही ब्लोग के पेज पर नीचे कुछ देशों और वाहन छपने वाले अख़बारों का लिंक भी दिया गया है, जिससे पाठक सीधी लिंक पर जा सकें।...विनीत उत्पल